Home » Ajab Gajab » गौमूत्र एक औषधीय पदार्थ है जानिए कैसे ?

गौमूत्र एक औषधीय पदार्थ है जानिए कैसे ?

भारत में गाय को मां/माता का दर्जा दिया गया है । हमारे भारत में बहुत से लोग होंगे जिन्हे गौमूत्र पीना एक अन्धविश्वास लगता होगा । अन्धविश्वास के नाम पर हम उन महत्वपूर्ण बातों को भी नज़रअंदाज़ कर देते हैं जो हमारे जीवन को स्वस्थ बनाने में सहायक हैं ।

मंगलवार 12 जून 2018, किसी व्यक्ति को अगर गाय का यूरिन या मूत्र पीला दिया जाय तो कोई भी इस बात को स्वीकार नहीं करेगा की यह एक सही क्रिया है और नित्य करने से व्यक्ति सवस्थ रह सकता है । वर्तमान में हम जिन मेडिसिन का इस्तेमाल करते हैं ओ भी रीसर्च पर आधारित होती हैं और उनमे भी ओ केमिकल्स (रासायनिक पदार्थ ) होते हैं जो किसी विशेष बीमारी को ठीक करने की लिए सहायक होते हैं ।

 

सही मायने में देखा जाये तो हमारे ऋषि मुनियों ने भी रिसर्च करके ही उन तत्वों का पता लगाया था जिनका सेवन किसी व्यक्ति को स्वस्थ रखने के लिए सहायक होता है। हमारे इन वैज्ञानिकों ने बिना किसी मिलावट या छेड़छाड़ के उन महत्वपूर्ण पदार्थों का वर्णन किया जो की मानव जाति को स्वस्थ रख सके । यही आयुर्वेद है जहाँ प्रकृति की औषधीय गुण रखने वाले वनस्पति जीव इत्यादि को इलाज के लिए इस्तेमाल किया जाता है ।

 

गौमूत्र को कई देशों में मेडिसिन के रूप में बेचा जाता है जहाँ मरीज़ खुशी से इसका सेवन करके सवस्थ होता है । भारत देश में गाय दो ईश्वर का दर्जा दिया गया है और इसके वजह यह है कि गाय का पूरा शरीर मानव के कल्याण के लिए सक्षम है ।

गौमूत्र के फायदे:

1. कैंसर से बचता है : विश्व में कितने ही लोग कैंसर से पीड़ित होते हैं और कई मरीज़ तो गलत इलाज के कारण ही मारे जाते हैं । डॉक्टर्स या तो ऑपरेशन करके कैंसर प्रभावित भाग को निकाल देते हैं या फिर मरीज दवाओं के बलबूते कुछ दिन इस संसार को देख पता है । किन्तु आयुर्वेद में कई ऐसे औषधियां हैं जो शरीर में कैंसर को खत्म कर उस भाग को रिपेयर भी कर देती हैं ।

 

भारत में नहीं पुरे विश्व में हर एक व्यक्ति का या मानना है कि किसी शरीर में कोई परेशानी हो उससे पहले ही कुछ ऐसा करें कि उसका सामना करने कि जरुरत न पड़े ।

 

भारत में गौमूत्र का नित्य सेवन करना मनुष्य कि सवास्थ्य के लिए लाभकारी होता है और कई प्रकार के बिमारियों से दूर रखता है । कैंसर जैसा एक घातक रोग भी गौमूत्र के नियमित सेवन से कभी नहीं होता और जिसे हो गया हो उसके लिए इसका नियमित सेवन की सलाह दी जाती है ।

2. त्वचा के रोगों में फायेदेमंद

गौमूत्र त्वचा के रोगों में काफी असरदार है और सफ़ेद दाग ( कुष्ठ रोग ) को बिलकुल सही कर देता है । त्वचा में होने वाली खुजली, एक्ज़िमा, सोरायसिस जैसे कई त्वचीय बीमारियां गौमूत्र से जड़ से खत्म हो जाती हैं ।

 

इसके अलावा गौमूत्र मोटापा, तिल्ली का सूजन, बवासीर, एड्स, खांसी, जुखाम, लिवर, आदि 100 से भी अधिक रोगों के इलाज में अचूक आयुर्वेदिक औषधीय है ।

Check Also

अपने ही बेटे से की शादी और अब बनने वाली है उसकी माँ

अपने ही बेटे से की शादी और अब बनने वाली है उसकी माँ

कभी आप ने सुना है की किसी माँ ने अपने ही बेटे से शादी की …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *