Home » Ajab Gajab » 10 लाख रूपये है इस गधे की कीमत, भैंसे और घोड़े से आगे निकला

10 लाख रूपये है इस गधे की कीमत, भैंसे और घोड़े से आगे निकला

10 लाख रूपये है इस गधे की कीमत, भैंसे और घोड़े से आगे निकला

सोनीपत। हरियाणा में गधों की कीमत भैंसे और घोड़ों से भी आगे निकल गई है। सोनीपत के एक गधे की कीमत 10 लाख रुपए हैं। अभी तक इसके पांच लाख तक की तो कीमत लग चुकी है लेकिन गधे का मालिक दस लाख से कम बेचने को तैयार नहीं है। यह गधा सोनीपत के गांव नयाबास के रजनीश के पास है, जो इसकी देखभाल में दिन-रात लगा रहता है।

10 लाख के इस सुपर-डॉन्की का नाम है टीपू।  राज सिंह का दावा है कि उनका टीपू कोई मामूली गधा नहीं। वो साधारण गधों से 7-8 इंच लंबा है। उसका इस्तेमाल ब्रीडिंग के लिए किया जाता है। रोहतक के पशु मेले में उत्तर प्रदेश के एक गधाप्रेमी ने इसे खरीदने के लिए 5 लाख रुपए की बोली भी लगाई। लेकिन राज सिंह ने उसे बेचने से इनकार कर दिया। उनका कहना है कि मैं 10 लाख से एक रुपये कम पर भी इसे नहीं बेचूंगा। फिलहाल उनके घर पर गधे को देखने आने वालों का तांता लगा है और उम्मीद है कि जल्द ही कोई शौकीन आएगा और पूरी कीमत देखकर इस नायाब गधे को अपने साथ ले जाएगा।

रजनीश ने बताया है कि वह 15 साल पहले इसकी मां को खरीदकर लाया था और इन्हीं के सहारे अपना जीवन यापन करता है। इससे पहले भी वह 2 से 3 लाख की कीमत के गधे बेच चुका है। लेकिन इसकी कीमत वह 10 लाख रुपए मांग रहा है और 5 लाख रुपए तक के खरीदार उनके पास आ चुके हैं।

टीपू भले ही गधा है लेकिन उसकी खुराक शाही है। वो रोज 5 किलो काले चने, 4 लीटर दूध और 20 किलो हरा चारा खाता है। खाने के बाद वो स्वीट डिश में सिर्फ और सिर्फ लड्डू खाता है। कभी गुड़ देने की कोशिश की जाए तो उसका मूड खराब हो जाता है। कुल मिलाकर गधे की आवाभगत में रोज हजार रुपये से ऊपर का खर्च बैठता है। वो रोज सुबह और शाम को सैर पर भी जाता है। चूंकि टीपू मूलत: गधा है इसलिए वॉक पर जाने के दौरान वो जमीन पर लोटना नहीं भूलता। आजकल गर्मी का मौसम है तो टीपू के लिए हर वक्त पंखा चलाया जाता है। फिलहाल टीपू से सेवाएं लेने के लिए हिमाचल, उत्तर प्रदेश समेत तमाम आसपास के तमाम राज्यों के लोग आते हैं। ब्रीडिंग के लिए वो एक बार की फीस पूरे 10 हजार रुपये लेता है।

रजनीश के बेटे सुमित ने बताया है कि वह भी अपने पिता की इस काम में स्कूल की पढ़ाई के बाद पुरी मदद करता है और इससे ही उनका गुजारा होता है। वे आने वाले समय में ज्यादा मेहनत कर इससे भी अच्छा गधा तैयार करेंगे, जिसकी कीमत 20 लाख रुपए तक होगी।

हरियाणा के किसान जिस तरह से दिन-प्रतिदिन मेहनत कर अपने दम पर अपने पशुओें का पालन -पोषण कर रहे हैं, उसके बाद एक बात तो साफ है कि आने वाले समय में प्रदेश पशु पालन में भी सबसे आगे होगा।

Check Also

दंग रह जायेंगे इस टैलेंट को देखकर

अगर सोंच सही हो लगन पूरी तो किया गया कार्य एक अद्भुत परिणाम कि रूप …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *