Home » Health » हार्ट अटैक से भी ज्यादा खतरनाक है कार्डियक अरेस्ट

हार्ट अटैक से भी ज्यादा खतरनाक है कार्डियक अरेस्ट

हार्ट अटैक से भी ज्यादा खतरनाक है कार्डियक अरेस्ट

अचानक होने वाली मृत्यु में सडन कार्डियक अरेस्ट की समस्या काफी बढ़ती जा रही है। यह हृदय से जुड़ा रोग है। का‌र्डियक अरेस्ट में हृदय खून का संचार करना बंद कर देता है। ज्यादातार लोग इसे हार्ट अटैक ही मानते है, लेकिन दोनों में अंतर है।

हार्ट अटैक में अचानक ही हृदय की किसी मांसपेशी में खून का संचार रुक जाता है, जबकि कार्डियक अरेस्ट में हृदय में खून का संचार बंद कर देता है। हार्ट अटैक के वक्त भी हृदय बाकी शरीर के हिस्सों में खून का संचार करता है और व्यक्ति होश में रहता है, लेकिन कार्डियक अरेस्‍ट में सांस नहीं आती और व्यक्ति के कोमा में जाने की संभावना अधिक रहती है। हार्ट अटैक के मरीज को कार्डियक अरेस्ट का खतरा अधिक रहता है।

जब रक्त में फाइब्रिनोजन की मात्रा ज्यादा हो जाती है हृदय में रक्त का संचार रुक जाता है। रक्त के फाइब्रिनोजन की अधिक मात्रा के कारण हृदय की गति असामान्य हो जाती है।

अगर कोई कार्डियक अरेस्ट से पीड़ित है तो उसे इलेक्ट्रिक शॉक ही बचा सकते है। जिस डिवाइस से इलेक्ट्रिक शॉक दिए जाते है उसे डिफिब्रिलेटर कहते है और कार्डियक अरेस्ट के मरीज की ये आखिरी उम्मीद होती है।

Check Also

30 की उम्र और हार्ट की समस्या दे सकती है दस्तक

बिगड़ते वातावरण और खान पान की वजह से आज के समय में 30 की उम्र में …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *