Home » Health » रोज खाएं काजू और पाएं ये फायदे

रोज खाएं काजू और पाएं ये फायदे

रोज खाएं काजू और पाएं ये फायदे

काजू आपकी सेहत के लिए लाभकारी होते हैं, इसलिए हर रोज काजू का सेवन करना चाहिए। वैसे तो चिकित्सक भी काजू के बारे में बताते हैं की काजू के सेवन से आप बुढ़ापा दूर रख सकते हैं। काजू को हम कई तरह से यूज करते हैं। सूखे मेवे में ये बेहद लोकप्रिय है। लेकिन इसके कई लाभ भी होते हैं।

काजू खाने के स्‍वास्‍थ्‍य लाभ

दिल के लिये फायदेमंद

काजू में मोनो सैचुरेटड फैट होता है जो की दिल को स्वस्थ रखता है और दिल की बीमारियों के खतरे को कम करता है। इसमें बिल्‍कुल भी कोलेस्‍ट्रॉल नहीं होता है।

शरीर बनाए मजबूत

काजू में मेगनीशियम पाया जाता है जो कि हड्डी में मजबूती लाता है। हमारे शरीर को रोजाना 300-750 mg मैगनीशियम की आवश्‍यकता पड़ती है।

त्वचा निखाारे

त्वचा के लिए भी काजू काजू को दूध में मिलाकर रगड़ने से त्वचा सुंदर और मुलायम बनती है। इससे रंगत भी निखरती है। काजू का नियमित सेवन आपके बालों को झड़ने से रोकते हैं।

दिमाग को धारदार बनाता है

काजू में एक प्रकार का तेल होता है, जो विटामिन-बी का खजाना है। इसी वजह से इसे तत्काल शक्तिदायक खाद्य पदार्थ माना गया है। वैसे, बादाम में भी विटामिन-बी और फोलिक एसिड होता है। भूखे पेट काजू खाकर शहद खाने से स्मरण शक्ति जल्दी बढ़ती है। काजू खाने से यूरिक अम्ल नहीं बनता।

मजबूत मसूड़े

काजू खाने से मंसुड़ो के तकलीफ से दूर होती है और साथ हि साथ चमकदार बनाने में मददगार साबित होता है |

बी पी रखे कंट्रोल में

इन मेवों में सोडियम बहुत ही कम और पोटैशियम हाई मात्रा में होता है, जिससे ब्‍लड प्रेशर कंट्रोल में रहता है।

थकान दूर करता है

काजू को ऊर्जा का एक अच्छा स्रोत माना जाता है। इसका कोई कुप्रभाव नहीं होता। ये अलग बात है कि इसे कम मात्रा में खाना चाहिए। कई बार आप बिना किसी परिश्रम के थकान महसूस करते हैं। आपका मूड भी अपसेट हो रहा होता है, ऐसे में दो-तीन काजू चबा लें। इससे थकान तत्काल दूर हो जाएगी।

सफ़ेद दाग मिटाता है

काजू का तेल सफेद दागों पर लगाने से धीरे-धीरे सफेद दाग मिट जाते हैं। इससे ब्लड प्रेशर भी कंट्रोल में रहता है।

कैंसर से बचाए

काजू में एंटी ओक्सिडेंट जैसे विटामिन ई और सेलनियम भी होते हैं जो कि कैंसर से बचाव करता है। इसके साथ ही इसमें जिंक होता है जो कि संक्रमण से लड़ने में मदद करता है।

वजन संतुलित रहे

काजू खाने से आपका वज़न नियंत्रण में रहता है, परन्तु इस बात का भी धयान रखे की जरूरत से जायदा खाने से इसका उल्टा असर पर सकता है और वजन बढ़ भी हो सकता है |

डायबटीज़ कम करे

मधुमेह यानी डायबटीज़ को कम करने के लिए काजू काफी फायदेमंद साबित हो सकता है। एक नए अध्ययन में खुलासा हुआ है कि काजू इंसुलिन की मात्रा बढ़ाता है, जिससे मधुमेह नियंत्रित रहता है।

एनीमिया दूर करे

काजू में मौजूद कॉपर शरीर में एंजाइम गतिविधि, हार्मोन का उत्पादन, मस्तिष्क का कार्य आदि संभालने में मदद करता है। कॉपर रेड ब्‍लड सेल्‍स को बढ़ा कर एनीमिया जैसी बीमारी को दूर करता है।

काजू के ज्यादा सेवन से बचे

थोड़ी मात्रा में काजू के सेवन न सिर्फ शरीर को ऊर्जा मिलती है बल्कि कई बीमारियां भी दूर होती है। लेकिन अधिक मात्रा में काजू कई प्रकार के दुष्‍प्रभाव का कारण बन सकता है जिन्हे नीचे दिया गया है।

रक्तचाप की समस्‍या

नमकीन काजू आसानी से उपलब्‍ध होने वाला नाश्‍ते का विकल्‍प है। साथ ही यह बहुत स्‍वादिष्‍ट भी होता है। लेकिन फिर भी उच्‍च रक्तचाप वाले लोगों को इससे बचना चाहिए क्‍योंकि इसमें सोडियम का उच्‍च स्‍तर होता है।

वजन का बढ़ना

काजू में कैलोरी की अधिक मात्रा के कारण इसके अधिक सेवन से अनावश्‍यक वजन बढ़ने लगता है। लगभग 30 ग्राम काजू 163 कैलारी और 13.1 फैट होता है।

सिर दर्द की समस्‍या

अगर आप सिर दर्द और माइग्रेन से पीड़ित हैं, तो आपको काजू के सेवन से बचना चाहिए। क्‍योंकि इसमें अमीनो एसिड की मौजूदगी सिर दर्द पैदा कर सकती है।

सर्जरी से पहले काजू के सेवन से बचें

क्‍योंकि काजू रक्त शर्करा के स्‍तर को प्रभावित करता है, इसलिए कुछ मामलों में काजू सर्जरी के दौरान और बाद रक्त शर्करा नियंत्रण में हस्‍तक्षेप करता है। ऐसे में सर्जरी से पहले कम से कम 2 सप्‍ताह पहले काजू का अधिक सेवन बंद कर देना चाहिए।

डा‍यबिटीज में नुकसानदेह

ज्‍यादा मात्रा में काजू के सेवन से रक्त शर्करा के स्‍तर में वृद्धि होती है। मधुमेह से पीड़‍ित लोगों को इसके सेवन के समय अपनी रक्त शर्करा की निगरानी करनी चाहिए। और इसके अनुसार अपनी मधुमेह दवाओं की खुराक को समायोजित करें।

गर्भावस्था में एलर्जी की समस्‍या

हालांकि काजू विटामिन और मिनरल का एक समृद्ध स्रोत प्रदान करता है। और गर्भवती महिलाओं के लिए पौष्टिक नाश्‍ते का एक अच्‍छा विकल्‍प हो सकता है। लेकिन अगर आपको एलर्जी की समस्‍या होती है तो गर्भावस्‍था के दौरान खुद को और अपने बच्‍चे को एलर्जी से बचाने के लिए इस नट से दूर रहना चाहिए। इसके अलावा गर्भवती को नमकीन काजू खाने से बचना चाहिए क्‍योंकि इसमें सोडियम की उच्‍च स्‍तर के कारण रक्तचाप बढ़ सकता है।

एलर्जी का कारण

संयुक्त राज्य अमेरिका में काजू एलर्जी की समस्‍या दिन ब दिन बढ़ती जा रही हैं। काजू को खाने से एलर्जी कभी-कभी घातक भी हो सकती है। इसलिए सांस लेने में कठिनाई, पित्ती, चकत्ते, खुजली, उल्‍टी या दस्‍त जैसे एलर्जी के लक्षण दिखने पर तुरंत डॉक्टर सलाह लेना महत्वपूर्ण होता है।

गॉलब्‍लैडर में स्‍टोन

काजू को बहुत ज्‍यादा खाने से बचना चाहिए क्‍योंकि इससे मौजूद ऑक्सलेटेस तत्‍व किडनी या गॉलब्‍लैडर में स्‍टोन के गठन के साथ यह कई स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं का कारण हो सकता है। इसलिए गॉलब्‍लैडर से पीड़‍ित व्‍यक्ति को ध्‍यान रखना चाहिए।

Check Also

hair fall home remedies

झड़ते बालों को रोकने के लिए घरेलु उपाय

सिर पर मोठे घने बाल किसी की भी व्यक्तित्व में चार चाँद लगा देते हैं …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *