Home » Health » पेट के कीड़ों के लिए घरेलु इलाज

पेट के कीड़ों के लिए घरेलु इलाज

पेट के कीड़ों के लिए घरेलु इलाज

पेट में पाए जाने वाले  कीड़ों को पैरासाइट यानि परजीवी कहते हैं ये हमारे शरीर में रहकर अपना पोषड लेते हैं  ये परजीवी कई प्रकार के होते हैं जिनके नाम इस प्रकार हैं –
१. टैपवार्म
२. राउंडवर्म
३. हुकवर्म
जयादा समय तक रहने पर ये हमारे शरीर के अंगों को नुकसान पहुंचा सकते हैं | शरीर में होने पर ये अक्सर मल में दिखाई दे जाते हैं | निचे बताये गए घरेलू  तरीकों का इस्तेमाल कर इनसे बचा जा सकता है –

(लहसुन)

लहसुन एक बहुत  असरदार  एंटी पैरासाइट इलाज है लहसुन के इस्तेमाल से पेट के हर टाइप के कीड़ों से बचा जा सकता है लहसुन में पाए जाने वाले औषधीय तत्व पेट और आंतों के कीड़ों के अलावा बैक्टीरिया , फंगस और माइक्रोब्स पर भी काफी असरदार है|

कैसे करें इस्तेमाल –

a. लहसुन के तीन फांक खाली पेट रोज़ सुबह लें | ऐसा आपको १ सप्ताह तक करना है और हर तरह के पेट के कीड़ों से मुक्ति पाएं |
b. दूसरा तरीका २ फांक लहसुन को कुचल कर आधे कप दूध में उबालकर खली पेट लें ऐसा १ सप्ताह तक करें पेट के कीड़ों से  मुक्ति मिल जाएगी

(नारियल)

नारियल एक बहुत प्रभावशाली इलाज है और ये हर प्रकार के पेट के कीड़ों पर असरदार है | नारियल का फल और इसका तेल दोनों ही इस्तेमाल कर सकते हैं | नारियल को औषधी के रूप में प्रयोग करने के विधि इसप्रकार है –

a. १ चमच कुचला हुआ नारियल रोज लें जब तक कीड़े खत्म न हो जाएँ |
b. २ – ६ चमच नारियल का तेल रोज लें जब तक कीड़े खत्म न हो जाएँ |

(पपीता)

कच्चे पपीते में पपाइन नमक एंजाइम के प्रचुरता होती है जो इन परजीवियों पर काफी असरदार होता है साथ ही पपीते के बीजों में करिसिन नमक तत्व होता है जो कीड़ों को बहार निकलने में सार्थक होता है | पपीते का इस्तेमाल हम इसप्रकार कर सकते हैं –

a. १ चमच पपीते का जूस और १ चमच सहद को २-३ चमच गरम पानी में मिलकर खली पेट इसका सेवन करें | ऐसा २ -३ दिन तक करें |
b. पपीते के बीज का पाउडर बना लें फिर २ चमच पाउडर को १ कप गरम पैन या दूध के साथ मिक्स करके खली पेट इसका सेवन ३ दिनों तक करें |

(कद्दू के बीज)

कद्दू के बीज भी पेट के कीड़ों को समाप्त करने के लिए असरदार हैं | कद्दू के बीजों को हम इसप्रकार प्रयोग कर सकते हैं |
a. बीजों को छीलकर उसे कुचल लें और उसे गर्म पानी में डालें इसे ३० मिनट तक छोड़ दें और फिर ठंडा कर लें | एक दिन का उपवास रखने के बाद सूखे आलूबुखारा का गरम पानी में जूस बनाकर पियें ताकि आंतें साफ हो जाये फिर बनाये हुए औषधी का सेवन करें |
b. बीजों को भूनकर उसे कुचल लें और सामान मात्रा में सहद लेकर खली पेट सुबह इसका सेवन करें |

Check Also

क्या आप जानते हैं किस अंग के लिए कौन सा फल या सब्ज़ियां प्रयोग करनी चाहिए ? आइये जानें ।

ईश्वर ने हर जीव के जीवन को सुचारु रूप से चलाने के लिए खाद्य पदार्थों …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *