Home » Health » गर्भवती महिलाओं रहें सावधान, न करें ये सब

गर्भवती महिलाओं रहें सावधान, न करें ये सब

गर्भ में पल रहे बच्चे के साथ साथ स्वयं उस बच्चे को गर्भ में रखने वाली महिला का स्वस्थ होना भी बहुत जरुरी है ।

स्वस्थ महिला ही एक स्वस्थ शिशु को जन्म दे सकती है । शिशु का जन्म न ही उस महिला और उसके परिवार से अपितु समाज से भी जुड़ा होता है । सौ अस्वस्थ बच्चों से अच्छा होता है एक सवस्थ बच्चा । जब बच्चा गर्भ में होता है तो उसे गर्भ में रखने वाली महिला का खान पान उस बच्चे के स्वस्थ पर असर डालते हैं ।

गर्भ में पल रहे बच्चे का स्वस्थ कभी कभी तो इस हद तक बिगड़ जाता है कि बच्चा जीवन भर उस परेशानी को झेलता रहता है । गर्भ में पल रहे बच्चे को ज्यादा से ज्यादा खाकर स्वस्थ नहीं रखा जा सकता अपितु पौष्टिकता से भरपूर सही समय से और नियमित व्यायाम से स्वस्थ रखा जा सकता है ।

गर्भवती महिला के शुरू के ३ महीने बहुत ही महत्वपूर्ण होते हैं इन ३ महीनों में शिशु का पूरा शरीर बनता है अतः किसी भी गर्भवती महिला को इन ३ महीनों में अपने खान पान पर विशेष ध्यान देने की जरुरत है ।

गर्भवती महिलाओं को क्या-क्या सावधानियां बरतने की जरुरत है यहाँ संक्षिप्त में बताया जा रहा है –

1. शराब : कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि शराब अगर संतुलित मात्रा में ली जाये तो शरीर के लिए फायेदेमंद होती है । जो महिलाएं शराब नहीं पीतीं उनके लिए तो बहुत अच्छा है किन्तु जिन महिलाओं को शराब पीने की आदत है उन्हें इस बात की जानकारी होनी बहुत जरुरी है की उनके शराब पीने के वजह से बच्चे में फेटल अल्कोहल सिंड्रोम (FAS) होने की आशंका होती है जिसमें बच्चे की वृद्धि धीमी हो जाती है और उसके सीखने की क्षमता कमजोर हो जाती है । स्थिति और ख़राब हुई तो बच्चे का चेहरा भी बिगड़ सकता है ।

2. सिगरेट : धूम्रपान यानि स्मोकिंग की आदत को एक गर्भवती महिला को पूरी तरह से छोड़ देना चाहिए । धूम्रपान से गर्भ में पल रहे बच्चे को सडेन इन्फेंट डेथ सिंड्रोम (SIDS) होने की सम्भवना बढ़ जाती है । धूम्रपान से गर्भ में पल रहे बच्चे का वजन कम हो सकता है और इसके वजह से उसे संक्रमण, कुपोषण और साँस की बीमारियां हो सकती हैं ।

3. भोजन: गर्भवती महिला को अपने खाने में वसायुक्त खाने की अधिकता से बचाना चाहिए । भोजन में प्रोटीन, विटामिन युक्त भोजन को नियमित रखना चाहिए । विटामिन रोजमर्रा की जरुरत है अतः ज्यादा से ज्यादा हरी सब्ज़ियों का सेवन करना चाहिए ।

4.कैफीन युक्त पेय पदार्थ : कैफीन युक्त पेय पदार्थ जैसे चाय कॉफ़ी, सॉफ्ट ड्रिंक्स इत्यादि का सेवन या तो पूरी तरह से बंद कर दें या बहुत ही कम कर दें । इस प्रकार की पेय पदार्थ अनिद्रा, हृदय की अनियमिताओं, चिड़चिड़ापन इत्यादि की वजह हो सकती है । इस प्रकार का पेय पदार्थ गर्भ में पल रहे बच्चे पर बुरा असर दाल सकती है ।

गर्भवती महिलाओं की दवाइयों, देर तक टेलीविजन या कंप्यूटर पर बैठने से भी बचना चाहिए ।

यहाँ पर कुछ महत्वपूर्ण सावधानियों की बारे में बताया गया है जिसे हर गर्भवती महिला को जानना बहुत ही जरुरी है ।

1. Rhogam : यदि गर्भवती महिला Rh negative है और गर्भ में पल रहा बच्चा Rh पॉजिटिव इस स्थिति में गर्भवती महिला को यह जानना बहुत जरुरी है कि गर्भवती महिला को गर्भ धारण करने के २८ सप्ताह में और बच्चे के जन्म के ७२ घंटे के अंदर Rhogam की सुई लगवा लेनी चाहिए ।

क्यों करना चाहिए ऐसा ?

गर्भवती महिला का शरीर बच्चे के शरीर से जुड़ा होता है और अगर बच्चे के लाल रक्त कोशिकाएं (RED BOOD CELLS ) गर्भवती महिलाओं के शरीर में प्रवेश करता है तो इन Rh factor से लड़ने के लिए शरीर antibodies का निर्माण करने लगता है ये एंटीबाडीज खतरनाक होते हैं और दूसरे बच्चे के जन्म के समय घातक हो सकते हैं ।

2. Gestational Diaetes : इस प्रकार का डायबिटीज सिर्फ गर्भवती महिलाओं को ही होता है । इस परेशानी से बचने के लिए गर्भवती महिलाओं को हल्का फुल्का व्यायाम करते रहना चाहिए । रक्त में शुगर की मात्रा बढ़ने से यह परेशानी हो सकती है ।

क्या नुकसान हो सकता है इससे ?

गर्भवती महिलाओं के साथ साथ बच्चे को भी नुकसान पहुंचा सकता है गेस्टेशनल डायबिटीज । बच्चे का बड़ा होना, पिलिआ इत्यादि होने की संभावना बढ़ जाती है । गर्भवती महिला में भी हाई ब्लड प्रेशर, किडनी का फेल होना इत्यादि की समस्या हो सकती है ।

Check Also

रहना है स्वस्थ तो हल्दी का इस्तेमाल नित्य करें

हल्दी एक औषधीय पौधा है जिसका इस्तेमाल भारतवर्ष के हर घर में किया जाता है …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *