Home » Health » रहना है स्वस्थ तो हल्दी का इस्तेमाल नित्य करें

रहना है स्वस्थ तो हल्दी का इस्तेमाल नित्य करें

हल्दी एक औषधीय पौधा है जिसका इस्तेमाल भारतवर्ष के हर घर में किया जाता है हल्दी को हम भोजन में तो इस्तेमाल करते ही हैं साथ ही पूजा-पाठ जैसे विधियों में भी इसका इस्तेमाल किया जाता है ।

 

हल्दी जिसे अंग्रेजी में हम टरमरिक के नाम से भी जानते हैं में औषधीय गुण होते हैं । भारत में हल्दी का प्रयोग अनेकों प्रकार के रोगों को ठीक करने में किया जाता रहा है । जैसे कि पाचन तंत्र के समस्याओं रक्त प्रवाह की दिक्कत उच्च रक्तचाप कोलेस्ट्रॉल की समस्या गठिया कैंसर जैसी बीमारियों को ठीक करने के लिए हल्दी का प्रयोग सदियों से होता आ रहा है। त्वचा से संबंधित अनेकों बीमारियों को ठीक करने के लिए हल्दी का इस्तेमाल किया जाता रहा है।

 

आइए जानते हैं मून बीमारियों के बारे में जिस में हल्दी का इस्तेमाल लाभकारी सिद्ध होता है-

डायबिटीज (Diabetes)

इस समय डायबिटीज से ग्रसित बहुत से लोग आपके आसपास दिखाई देंगे व्यस्त दिनचर्या अनियमित भोजन अनिद्रा शरीर में होने वाले इस बीमारी के मुख्य कारण हैं।  हल्दी का प्रयोग मधुमेह में काफी सहायक होता है । मधुमेह से ग्रसित व्यक्ति को प्रतिदिन तीन बार एक चम्मच हल्दी का इस्तेमाल करना चाहिए।

अस्थमा (Asthma)

आज का वातावरण बहुत ही दूषित हो चुका है बड़े से लेकर छोटे बच्चों तक को अस्थमा की दिक्कत होने लगी है। अस्थमा होने पर एक कप गर्म दूध में एक चम्मच हल्दी पाउडर डालकर पिलाने से इस रोग में आराम मिलता है।

 

पाचन तंत्र से संबंधित समस्याएं
(Stomach & intestine disabilities)

अनियमित भोजन फास्ट फूड असुरक्षित भोजन के कारण वर्तमान में ज्यादातर  प्राणी अपने पाचन तंत्र के समस्याओं से जूझते रहते हैं इन समस्याओं से बचने के लिए वह तरह तरह के जतन करते हैं । हल्दी के अंदर पाचन तंत्र की समस्याओं को दूर करने से संबंधित अचूक औषधि गुण हैं हल्दी से हम निम्न प्रकार की समस्याओं से बच सकते हैं। कमजोर पाचन तंत्र डिस्पेप्सिया अनियमित मेटाबॉलिज्म इत्यादि अपने भोजन में हल्दी का नियमित इस्तेमाल करके हम पाचन तंत्र से संबंधित समस्याओं से छुटकारा पा सकते हैं।

 

Check Also

30 की उम्र और हार्ट की समस्या दे सकती है दस्तक

बिगड़ते वातावरण और खान पान की वजह से आज के समय में 30 की उम्र में …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *