Home » India » उत्तरप्रदेश का इलाहाबाद बन जायेगा प्रयागराज

उत्तरप्रदेश का इलाहाबाद बन जायेगा प्रयागराज

विपक्ष को शहर का नाम परिवर्तित करना लगता है ढकोसला ।

सोमवार 15 अक्टूबर 2018, उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री आदित्य नाथ योगी के इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयागराज रखे जाने की मंजूरी के बाद विपक्ष का भारतीय जनता पार्टी और उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री पर हमला तेज़ हो गया है । समाजवादी पार्टी के नेता और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलश यादव ने भी योगी पर किया पलटवार ।

याद आये महाराज हर्ष वर्धन 

समाजवादी पार्टी के नेता और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है की सिर्फ शहर का नाम बदल देने से जनता को दिए गए वादे पुरे नहीं हो जायेंगे । अखिलेश यादव ने ट्वीट पर राजा हर्षवर्धन की कहानी लेकर कहा कि राजा हर्षवर्धन ने अपने दान के आधार पर इस शहर का नाम “प्रयागकुम्भ ” रखा था और आज सिर्फ शहर का नाम बदलकर जनता को लुभाने की कोशिश की जा रही है जो के सफल नहीं होगी ।

नाम परिवर्तन को राज्यपाल की भी मंजूरी 

रविवार को संतों के प्रस्ताव को मंजूरी देते हुए इलाहाबाद का नाम प्रयागराज करने की मंजूरी उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने दी थी। इस प्रस्ताव को राज्य के राज्यपाल की भी सहमति प्राप्त है । इलहाबाद में कुम्भ का मेला भी लगता है और यहाँ तीन पवित्र नदियों गंगा, यमुना और सरस्वती का संगम हैं । प्रयाग नाम से इस शहर की आस्था जुडी है ।

इलाहाबाद को प्रयाग राज में परिवर्तित करना गलत क्यों ? 

विपक्ष कितना सही है और कितना गलत ये तो आने वाला समय ही बताएगा किन्तु अकबर हो या बाबर अगर भारत की धरती पर राज्य करने के लिए उन्हें अपने धर्म के आधार पर यहाँ के जगहों के नाम बदलने पड़े तो हिंदुस्तान की धरती को आज़ादी के बाद अपना पुराना अस्तित्व बनाने के लिए अगर नाम बदलना ही पड़ रहा है तो इसमें गलत ही क्या है ? अकबर भी तो प्रयागकुंभ के नाम से इस शहर को चला सकता था फिर उसे इलाहबाद रखने की क्या जरुरत महशूस हुई । बाबर को मंदिरों को तोड़कर मस्जिद बनवाने की क्या जरुरत महशूस हुई ?

Check Also

22 श्रद्धालुओं की हार्ट अटैक से हुई मौत

जम्मू, राज्य ब्यूरो। इस बार बाबा अमरनाथ की यात्रा में श्रद्धालुओं के लिए स्वास्थ्य के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *