Home » India » आज बरसेगी भगवान विश्वकर्मा की कृपा

आज बरसेगी भगवान विश्वकर्मा की कृपा

विश्वकर्मा भगवान की पूजा लगभग पुरे भारत वर्ष में बड़ी धूम धाम से की जाती है ।

सोमवार 17 सितम्बर 2018, हिन्दू धर्म में भगवान विश्वकर्मा को ईश्वर का वास्तुकार कहा जाता है । द्वापर युग में भगवान श्री कृष्ण के नगरी द्वारका का निर्माण भी भगवान विश्वकर्मा के हाथों ही हुआ था । इसके अलावा पांडवों के लिए बनाये गए माया सभा के निर्माता भी भगवान विश्वकर्मा ही थे । त्रेतायुग में रावण की लंका का जिक्र आता है जो पूरी सोने की बनी हुई थी उसका निर्माण दो बार किया गया था । कथानुसार जब हनुमान जी ने लंका को जलाकर राख कर दिया था तब रावण के आदेश पर भगवान विश्वकर्मा ने पूरी सोने की लंका का जिरोनोउद्दार किया था और लंका को फिर से पहले जैसा बना दिया था ।

भगवान विश्वकर्मा का यह त्योहार सभी निर्माता कंपनी , फैक्ट्री आदि में काम करने वाले कर्मचारी बड़े धूम धाम से मानते हैं ।

Check Also

बिहार, झारखंड में तेज हवा के साथ बारिश का अलर्ट

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग ने आज उत्‍तर कर्नाटक, तमिलनाडु, पुड्डूचेरी, कराईकल तेलंगाना और मध्‍य प्रदेश …

3 comments

  1. Hello! This is my first visit to your blog!
    We are a group of volunteers and starting a new project
    in a community in the same niche. Your blog provided us beneficial information to work on. You have done a extraordinary job! http://cado789.com

  2. Hello I am so glad I found your weblog, I really found you
    by mistake, while I was looking on Digg for something
    else, Anyways I am here now and would just like to say thanks a lot for a marvelous
    post and a all round interesting blog (I also love the theme/design),
    I don’t have time to go through it all at the minute but I have bookmarked it and also added
    your RSS feeds, so when I have time I will be back to read more,
    Please do keep up the awesome job. http://cado789.com

  3. You may make quick money online seeking take action on data.
    It’s easy to do right and takes little time.
    But how you can do the On page Optimisation to win? http://Www.Bujsv-game.us/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *