Home » India » बकरीद पर योगी आदित्यनाथ के दिए हुए निर्देश सही क्यों नहीं?

बकरीद पर योगी आदित्यनाथ के दिए हुए निर्देश सही क्यों नहीं?

योगी आदित्यनाथ ने बकरीद के दिन दी जाने वाली कुर्बानी पर अफसरों को कुछ निर्देश दिए हैं जिसे मुस्लिम वर्ग खासतौर पर नाराज़ है ।

मंगलवार 21 अगस्त 2018, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी ने उत्तर प्रदेश के अफसरों को निर्देश दिए हैं कि खुले में बलि न दी जाये । गौ हत्या न की जाये । नालियों में मांस कि टुकड़े न फेंकें जाएँ । इस निर्देश से मुस्लिम वर्ग काफी नाराज है । मुस्लिम विधयक ओवैसी जो मुस्लिमों की कुरीतियों को बनाये रखने में खासा प्रयासरत रहते हैं को योगी या मोदी द्वारा लिए गए किसी भी फैसले को मुस्लिम विरोधी साबित करने में देर नहीं लगती ।

अब सवाल ये उठता है कि आखिर योगी ने ऐसा कौन सा गलत निर्देश दे दिया जो मुस्लिमों के लिए खतरा हो गया । योगी से बलि के लिए मन नहीं किया है सिर्फ बलि देने के लिए सही तरीकों को इस्तेमाल करने के निर्देश दिए हैं तो ऐसे में मुस्लिम विरोधी ऐसा कौन सा काम योगी जी ने कर दिया जिससे मुस्लिमों को खतरा लगने लगा ?

क्या बकरे के बलि देने से अल्लाह खुश हो जाता है ?

कोई मुस्लिम ये कहने से नहीं कतराएगा कि अल्लाह ने सभी जीव जंतुओं को बनाया है जो फिर वो कैसा अल्लाह होगा जो एक दिन में करोङो जानवरों की बलि लेकर खुश हो जायेगा
। मुस्लिम धर्म को छोड़ अगर अन्य किसी धर्म में किसी भी ऐसे कदम से जिससे समाज को नुकसान पहुंचता है को छोड़ने में सभी धर्म आगे आते हैं जिससे जीवन के लिए एक बेहतर समाज मिल सके । इसके विपरीत मुस्लिम वर्ग में अगर कोई बदलाव करने की सोंची जाये तो इस्लाम खतरे में पद जाता है । ऐसा क्यों ?

इस्लाम इतना कमज़ोर क्यों ?

हिन्दू धर्म में अगर प्रकृति को नुकसान पहुंचता है तो दीपावली में पटाखों से ज्यादा दिए जलाने में विश्वास रखते हैं होली में रंगों से नुकसान हो तो ग़ज़िआ, पापड़ से अपना त्यौहार मानते हैं । सती प्रथा, दहेज़ प्रथा इत्यादि कई कुरीतियां बहुत ही पहले समाप्त कर दीं गई है या कानून रोक लगाने का प्रयास किया गया है । ठीक उसी प्रकार क्रिश्चियन और सिक्ख धर्म भी बुराईओं को छोड़ मानवता को बढ़ावा देते हैं और कोई धर्म अपना अस्तित्व नहीं खोता बल्कि उसका सम्मान होता है फिर इस्लाम ही खतरे में क्यों पद जाता है ?

Check Also

छत्तीसगढ़ में प्रधानमंत्री जनसभा को करेंगी सम्बोधित

प्रधानमंत्री 20 नवंबर से शुरू होनेवाले चुनाव के अंतिम दिन जनसभा को सम्बोधित करेंगे । …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *