Home » India » हार्दिक पटेल को दिखी मृत्यु, जानिए क्या हुआ

हार्दिक पटेल को दिखी मृत्यु, जानिए क्या हुआ

नौं दिनों का व्रत रख चुके हैं हार्दिक पटेल। अन्न जल छोड़ने से हो रही सेहत ख़राब, डॉक्टर्स ने हॉस्पिटल में भर्ती होने की दी सलाह ।

सोमवार 3 सितम्बर 2018, पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने आज अपने अनिश्चितकालीन उपवास के नौवें दिन अपनी “वसीयत ” का अनावरण किया । समुदाय के लिए सरकारी रोज़गार और कृषि में किसानों की ऋण मांफी के लिए अनसन पर बैठे हैं हार्दिक पटेल । एक पाटीदार नेता के अनुसार हार्दिक पटेल की संपत्ति उनके अपने माता-पिता, एक बहन, 2015 में कोटा आंदोलन के दौरान 14 युवाओं की मौत और अपने गांव के पास ‘पंजाबोल’ (बीमार और पुरानी गायों के लिए आश्रय) के बीच बांटी जाएगी ।पाटीदार अनामत आंदोलन समिति (PAAS) के प्रवक्ता मनोज पानारा ने अहमदाबाद के पास हार्दिक के निवास जहां वह 25 अगस्त से उपवास पर हैं, कहा कि, “हार्दिक पटेल ने अपनी मृत्यु के पश्चात अपनी आंखें दान करने की अपनी इच्छा व्यक्त की है।

हार्दिक पटेल की सेहत का जायजा लेने वाले प्रतिनिधियों में आज बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और हिंदुस्तान अवामी मोर्चा (एचएएम) के प्रमुख जीतन राम मांझी और गुजरात विधानसभा में विपक्ष के नेता परेशानी धनानी शामिल थे।

श्री पनारा ने दावा किया, “हार्डिक पटेल का स्वास्थ्य बिगड़ रहा है। उन्होंने पिछले नौ दिनों में खाना नहीं खाया है। उन्होंने पिछले 36 घंटों में पानी नहीं पीया।”

उन्होंने कहा कि श्री पटेल ने अपने खराब स्वास्थ्य के बारे में डॉक्टर की सलाह पर विचार करते हुए अपनी वसीयत को तैयार किया है।

हार्दिक के पास अपने बैंक खाते में 50,000 रुपये हैं, जिनमें से 20,000 रुपये अपने माता-पिता और बाकी के गुजरात में अपने मूल गांव के पास एक पंज्रोपोल को दिए जायेंगे ।

“अपनी जिंदगी ‘हू टूक माई जॉब’ पर पुस्तक से रॉयल्टी, जो वर्तमान में प्रकाशन के तहत है, साथ ही बीमा धन और उसके स्वामित्व वाली कार बेचने के बाद एकत्रित धन को उनके माता-पिता, उसकी बहन और परिवार के सदस्यों में विभाजित किया जाएगा श्री पनारा ने दावा किया कि 14 साल पहले आंदोलन के दौरान 14 लोगों ने अपने जीवन का त्याग किया था।

उन्होंने कहा कि कुल धन का 15 प्रतिशत हार्डिक पटेल के माता-पिता, उनकी बहन को 15 फीसदी और 14 पटिदारों के परिवार के सदस्यों को 70 फीसदी शेष मिलेगा।

पाटीदार नेता का दौरा करने वाले सरकारी अस्पताल के एक डॉक्टर ने आज कहा कि उन्होंने कोटा नेता को सलाह दी है कि वे अपने स्वास्थ्य पर विचार कर अस्पताल में भर्ती हो जाएं।

डॉक्टर ने कहा, “हमने उसे अस्पताल में भर्ती होने की सलाह दी है। उसका मूत्र और रक्तचाप सामान्य है, लेकिन हार्दिक ने रक्त और मूत्र परीक्षण से इनकार कर दिया है।”

Check Also

क्या समाज का माहौल बिगाड़ रहा सुप्रीम कोर्ट?

सुप्रीम कोर्ट जहाँ लोग न्याय के लिए जाते थी अब लोगों के लिए सिरदर्द बना …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *