Home » India » पाक अधिकृत कश्मीर ( PoK ) में भारतीय सेना की बड़ी कार्यवाई

पाक अधिकृत कश्मीर ( PoK ) में भारतीय सेना की बड़ी कार्यवाई

वर्त्तमान में सभी राजनीतिक पार्टयों का एक ही लक्ष्य है और वह है भारतीय जनता पार्टी को लोक सभा में हराकर सत्ता से बहार करना ।

मंगलवार 26 फरवरी 2019 , पुलवामा में शहीद हुए सेना के जवानों का बदला लेने का समय और दिन तय किया गया 11 दिन में । 100 किलो के बदले 1000 किलो बारूद सेना ने लौटाया आतंकी संगठनों को । 200 से 300 तक आतंकी ढेर किये गए ।

मिराज 2000 के 12 विमानों ने दिया हमले को अंजाम । पाकिस्तान में अब उठ रही है आवाज़ । भारत के खिलाफ आतंकी हमला कर 40 जवानों को शहीद कर पाकिस्तान के वजीर इमरान खान मांग रहे थे एक मौका । सेना की कार्यवाई के बाद पाकिस्तान में उठ रहे हैं इमरान पर सवाल ।

प्रधानमंत्री का शहीदों की क़ुरबानी का प्रतिशोध वाले कथन को सेना ने तड़के पूरा किया । 21 मिनट की बमबारी और पीओके में बालाकोट, चकोटी और मुजफ्फराबाद में आतंकी कैंप तबाह । भारतीय वायुसेना ने सुबह 03 बजकर 45 मिनट पर बालाकोट में हमला किया, 03 बजकर 48 मिनट पर मुजफ्फराबाद पर और 03 बजकर 58 मिनट पर चिकोटी में हमला किया।

Ministry of External Affairs of India ( MEA) की तरफ दी गई ये जानकारियां –

इस हमले में जैश के कई आतंकी और कमांडर मारे गए हैं।

इस आतंकी कैंप में मसूद अजहर के करीबी मौलाना युसुफ अजहर के होने की पुख्ता जानकारी थी।

इस कार्रवाई में आतंकियों के ठिकानों को भारी नुकसान हुआ है।

इस कार्रवाई में जैश के सरगना मसूद अजहर का रिश्तेदार चला रहा था।

इस कार्रवाई में आम लोगों को टारगेट नहीं किया गया।

भारतीय वायुसेना ने आज पीओके के बालाकोट में घुसकर जैश के कैंपों को तबाह कर दिया।
ऐसी सूचना मिली थी कि पीओके में चल रहे जैश के कैंपों में भारत के खिलाफ हमले की साजिश चल रही थी।

लेकिन पाकिस्तान ने अपनी जमीन का आतंक के लिए इस्तेमाल बंद नहीं किया।

पाकिस्तान से भारत ने लगातार कहा कि वह इन आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई करे।

जैश आतंकियों के पीओके में ट्रेनिंग कैंपों की जानकारी कई बार पाकिस्तान को दी गई।

14 फरवरी को हुए आतंकी हमले में जैश के आंतकियों की भूमिका थी ।

Check Also

विलुप्‍त होने के कगार पर केला

केला के विलुप्‍त होने की आशंका सामने नज़र आ रही है जिसके चलते अगले कुछ …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *