Home » India » अमृतसर ट्रेन हादसे में मजिस्ट्रेट जाँच के आदेश

अमृतसर ट्रेन हादसे में मजिस्ट्रेट जाँच के आदेश

शुक्रवार को हुए हादसे में अब तक 60 लोगों की जानें जा चुकी हैं और प्रसाशन की तरफ से मजिस्ट्रेट जांच का आदेश मिला है ।

शनिवार 20 अक्टूबर  2018, पंजाब के मुख्यमंत्री और नवजोत सिंह सिद्धू इस समय सवालों इ घेरे में खड़े हैं । कोई भी इस सवाल का जवाब देने की स्थिति में नहीं है कि यह हादसा क्यों हुआ ? उधर ट्रेन के ड्राइवर से पूछताछ करने पर यह बात साफ़ हो गयी कि ट्रेन में हॉर्न था उचित कंडीशन में था । ट्रैन को ग्रीन सिग्नल पर ही चलाया गया था और हादसे वाली जगह पर उचित रोशनी नहीं थी । रावण दहन कि दौरान चारों तरफ काफी धुआं था ।

नवजोत सिंह सिद्धू उनकी पत्नी नवजोत कौर और पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने अस्पताल में जाकर घायलों की स्थिति का जायजा लिया । अमरिंदर सिंह ने ४ हफ़्तों में मजिस्ट्रेट जाँच द्वारा पूरी जानकारी देने का आदेश दिया है ।

नवजोत सिंह सिद्धू ने इस घटना को सिर्फ एक दुर्घटना का नाम दिया है । नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा कि यह एक प्राकृतिक मार है और जो दुर्घटना हुई है वो काफी दुखद है ।

रावण दहा के समय हुई यह दुर्घटना 

शुक्रवार को जब रावण दहन का कार्यक्रम चल रहा था उस समय ट्रैक से केवल २०० मीटर की दुरी पर ही रावण दहन का कार्यक्रम चल रहा था । इस कार्यक्रम में मेहमान के तौर पर नवजोत सिंह सिद्धू की पत्नी नवजोत कौर को बुलाया गया था । नवजोत कौर के अनुसार जब यह हादसा हुआ उसके 15 मिनट पहले वह घटना स्थल से निकल चुकी थीं जबकि वहां पर मौजूद लोगों ने बताया कि हादसे के समय नवजोत कौर वहीँ मौजूद थीं ।

नवजोत कौर और नवजोत सिंह सिद्धू के लिए वहां के लोगों के लिए काफी रोष था और मौजूद लोगों ने नवजोत सिंह सिद्धू और उनकी पत्नी के लिए मुर्दाबाद के नारे लगाए । पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह भी घटना स्थल पर 16 घंटे बाद पहुंचे ।

Check Also

मनोहर पर्रिकर का आज होगा अंतिम संस्कार, राष्ट्रीय शोक की घोषणा

रविवार को गोवा की मुख्य मंत्री मनोहर पर्रिकर का एक लम्बी बीमारी की चलते निधन …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *