Home » India » हिन्दू धर्म में परिवर्तित मुस्लिम युवक का सुप्रीम कोर्ट में अपील, पत्नी की वापसी के लिए लगाई गुहार

हिन्दू धर्म में परिवर्तित मुस्लिम युवक का सुप्रीम कोर्ट में अपील, पत्नी की वापसी के लिए लगाई गुहार

नई दिल्ली में एक 33 वर्षीय मुस्लिम आदमी, जो छत्तीसगढ़ में 23 वर्षीय हिंदू लड़की से शादी करने के लिए हिंदू धर्म में परिवर्तित हो गया है, ने सुप्रीम कोर्ट से संपर्क किया है कि वह लड़की के माता पिता को निर्देश दे कि उस लड़की को वो उसके साथ रहने दें ।

रविवार 19 अगस्त 2018, मोहम्मद इब्राहिम सिद्दीकी, जो हिंदू धर्म में परिवर्तित हो गया था और अपना नाम आर्यन आर्य रख लिया था , ने छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय के आदेश को चुनौती दी और कहा कि उसके पत्नी को गलत तरीके से अपने परिवार वालों के साथ रहने के लिए निर्देशित किया गया है ।

मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा और न्यायमूर्ति डीवाई चंद्रचुद की एक खंडपीठ ने छत्तीसगढ़ सरकार से प्रतिक्रिया मांगी और राज्य सरकार से याचिका की एक प्रतिलिपि मांगी।

लड़की के परिवार वालों से था खतरा 

उस आदमी ने कहा कि उसकी और उसकी पत्नी के जीवन के लिए खतरा था। आर्यन ने कहा कि उन्हें उनकी पत्नी के परिवार और कुछ अन्य लोगों द्वारा धमकी दी जा रही थी। उन्होंने कहा कि उनकी पत्नी ने उच्च न्यायालय को बताया था कि वह 23 वर्षीय थीं और स्वेच्छा से उससे शादी कर ली थीं। लेकिन उच्च न्यायालय ने यह निर्देश दिया कि उसकी पत्नी स्वेछा से अपने माता पिता या रहे ।

मोहम्मद इब्राहिम सिद्दीकी से आर्यन आर्य

23 फरवरी, 2018 में, मोहम्मद इब्राहिम सिद्दीकी हिंदू धर्म में परिवर्तित होकर महिला से शादी करने के लिए आर्यन आर्य नाम लिया। छत्तीसगढ़ के रायपुर में आर्य समाज मंदिर में 25 फरवरी, 2018 को हिंदू परंपराओं के अनुसार उनका विवाह हुआ।अपनी याचिका में उन्होंने कहा कि उनकी पत्नी अंजलि जैन धम्मती में अपने माता-पिता के घर लौट आईं, लेकिन उन्होंने तुरंत अपने माता-पिता को विवाह के बारे में सूचित नहीं किया । उसके माता-पिता को उनकी शादी के बारे में पता चला तब लड़की ने यह योजना बनाई बिना किसी सूचना के अपने माता-पिता के घर से बाहर चली जाएगी।

पुलिस ने दर्ज़ कि गलत रिपोर्ट 

उसने 30 जून को अपना घर छोड़ा, लेकिन पुलिस ने उसे अपने पति से मिलने से पहले उसे पाया और उसे महिलाओं के लिए सखी सेंटर आश्रय घर ले गया। आर्यन ने आरोप लगाया कि पुलिस ने एक गलत बयान दर्ज किया था कि महिला अपने माता-पिता के साथ रहना चाहती थी और अपने पिता को अपनी हिरासत सौंपी थी।

उच्च न्यायालय ने नहीं किया इंसाफ 

आर्यन ने तब उच्च न्यायालय से संपर्क किया, जिसने अंजलि जैन और उनके पिता को 30 जुलाई को अदालत में पेश किया था। अंजलि जैन के साथ बातचीत करने के बाद उच्च न्यायालय ने कहा कि उसने अपने माता-पिता द्वारा किसी भी अवैध हिरासत से इंकार कर दिया था और यह दर्ज किया था कि उसके माता-पिता के रिश्ते या उनके विवाह के संबंध में पूरा समर्थन था।

याचिका में कहा गया है कि अदालत ने फैसला सुनाया था कि “अंजलि को एक मुक्त वातावरण में सोंचने समझने के लिए  समय दिया जाना चाहिए”।

Check Also

प्रियंका का दलितों का अपने पक्ष में करने का मिला अवसर, चंद्रशेखर से की मुलाकात

भीम आर्मी के नेता चंद्र शेखर को अस्पताल में भर्ती कराया गया है जहाँ पहुंचकर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *