Home » India » आज की तारीख में जन्मे थे राष्ट्रकवि मैथिलीशरण गुप्त

आज की तारीख में जन्मे थे राष्ट्रकवि मैथिलीशरण गुप्त

भारत की प्रसिद्ध कवि मैथिलीशरण गुप्त का आज जन्म दिवस है । आज का दिन कवि दिवस की रूप में भी मनाया जाता है ।

शुक्रवार 3 अगस्त 2018, मैथिलीशरण गुप्त जी का जन्म 3 अगस्त 1886 में उत्तरप्रदेश की झाँसी की पास स्थित चिरगाँव में हुआ था । साहित्य जगत में “दद्दा” नाम से विख्यात मैथिलीशरण गुप्त हिंदी साहित्य के इतिहास में खड़ी बोली के पहले महत्वपूर्ण कवि मने जाते हैं । 1912 में भारत स्वतंत्रता संग्राम के दौरान मैथिलीशरण की कृति “भारत भारती ” ने गहरी छाप छोड़ी और भारत के राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी के हाथ मैथिलीशरण गुप्त को “राष्ट्रकवि” का पदवी देने से न रोक पायी और इसी वजह से इस दिन को “कवि दिवस” के रूप में भी मनाया जाता है।

प्रमुख कृतियाँ :

‘भारत-भारती’,  मैथिलीशरण गुप्तजी द्वारा स्वदेश प्रेम को दर्शाते हुए वर्तमान और भावी दुर्दशा से उबरने के लिए समाधान खोजने का एक सफल प्रयोग कहा जा सकता है। भारत दर्शन की काव्यात्मक प्रस्तुति ‘भारत-भारती’ निश्चित रूप से किसी शोध से कम नहीं आंकी जा सकती।

महाकाव्य–  साकेत
खंड काव्य– जयद्रथ वध, भारत-भारती, पंचवटी, यशोधरा, द्वापर, सिद्धराज, नहुष,
अंजलि और अर्ध्य, अजित, अर्जन और विसर्जन, काबा और कर्बला, किसान,
कुणाल गीत, गुरु तेग बहादुर, गुरुकुल, जय भारत, झंकार, पृथ्वीपुत्र, मेघनाद वध,
नाटक –      रंग में भंग, राजा-प्रजा, वन वैभव, विकट भट, विरहिणी व्रजांगना, वैतालिक, शक्ति,
सैरन्ध्री, स्वदेश संगीत, हिडिम्बा, हिन्दू
अनूदित–      मेघनाथ वध, वीरांगना, स्वप्न वासवदत्ता, रत्नावली, रूबाइयात उमर खय्याम
मैथिलीशरण गुप्त ग्रंथावली (मौलिक तथा अनूदित समग्र कृतियों का संकलन 12 खंडों में, वाणी प्रकाशन, नयी दिल्ली से, प्रथम संस्करण-2008)

1954 में मैथिलीशरण गुप्त जी को  साहित्य एवं शिक्षा क्षेत्र में पदंभूषण से सम्मानित किया गया ।
12 दिसम्बर 1964 में 78 वर्ष के आयु पूरी करने के पश्चात मैथिलीशरण गुप्त जी ने इस संसार से हमेशा के विदा ले लिया।

Check Also

बिहार, झारखंड में तेज हवा के साथ बारिश का अलर्ट

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग ने आज उत्‍तर कर्नाटक, तमिलनाडु, पुड्डूचेरी, कराईकल तेलंगाना और मध्‍य प्रदेश …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *