Home » India » सिद्धू लेंगे अनाथों को गोद, पीड़ितों का पालन पोषण भी सिद्धू की जिम्मेदारी

सिद्धू लेंगे अनाथों को गोद, पीड़ितों का पालन पोषण भी सिद्धू की जिम्मेदारी

ट्रैन हादसे का शिकार हुए पीड़ितों के लिए नवजोत सिंह सिद्धू ने जताया दुःख । 5 लाख रुपये बतौर हर्ज़ाना देने के बाद यह बड़ा ऐलान ।

सोमवार 22 अक्टूबर 2018, अमृतसर का ट्रेन हादसा पुरे देश को झंकझोर देने वाला हादसा था । दशहरा के दिन 50 से भी ज्यादा लोगों की मौत हो गयी थी और कई लोग घायल हो गए थे। सांत्वना राशि के तौर पर 5-5 लाख रुपये का चेक भी वितरित किया गया ।

सवाल उठता है कि जो बच्चे इस दुर्घटना में अनाथ हो गए हैं उनका क्या ? जिनके परिवार का कमाने वाला व्यक्ति ही चला गया हो उसकी भरपाई कौन करेगा ? 5-5 लाख रुपये से न तो अनाथ बच्चों को माता पिता का सुख मिलेगा न ही आशय लोगों को सहारा ।

नवजोत सिंह सिद्धू ने एक कदम और आगे बढ़ते हुए दुर्घटना में अनाथ हुए बच्चों को गोद लेने का ऐलान किया है और साथ ही साथ उन असहाय लोगो का जीवन पर्यन्त भरण पोषण का जिम्मा भी लिया है जो दुर्घटना में मरे गए किसी अपने के कारण अकेले पड़ गए हैं ।

क्या जीवनपर्यन्त अनाथों और बेसहारों को मदद दे सकेगी सरकार?

अनाथ हुए बच्चों को गोद लेने से पहले क्या नवजोत सिंह सिद्धू सरकार उन परिवारों और बच्चों के लिस्ट सार्वजानिक कर सकते हैं जिन्हे वो जीवन पर्यन्त पालन पोषण देने के लिए तैयार हैं । क्या उन अनाथ हुए बच्चों का सचित्र लिस्ट जारी कर सकते हैं जिन्हे वो गोद लेकर परवरिश का वादा कर रहे हैं ? अनाथालय में बच्चों को रखा जायेगा या सिद्धू के पास इसके कोई अन्य व्यवस्था है ?

सिद्धू का राजनीति से सम्बंधित या ब्यान कितना सच होगा यह तो वक़्त ही बताएगा किन्तु जिन बच्चों ने अपने माता पिता को खोया है उसकी कमी तो घर का को सगा भी पूरी नहीं कर सकता । असहाय हुए लोग कितनो दिनों तक और कितना भरण पोषण सिद्धू सरकार से पाएंगे और कितने समय तक यह तो वक़्त ही बताएगा ।

Check Also

प्रियंका का दलितों का अपने पक्ष में करने का मिला अवसर, चंद्रशेखर से की मुलाकात

भीम आर्मी के नेता चंद्र शेखर को अस्पताल में भर्ती कराया गया है जहाँ पहुंचकर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *