Home » India » भारत का खौफ, लड़ाकू विमान लेकर सियाचिन ग्लेशियर पहुंचे पाकिस्तानी एयरचीफ

भारत का खौफ, लड़ाकू विमान लेकर सियाचिन ग्लेशियर पहुंचे पाकिस्तानी एयरचीफ

भारत का खौफ, लड़ाकू विमान लेकर सियाचिन ग्लेशियर पहुंचे पाकिस्तानी एयरचीफ

नई दिल्ली: भारतीय सिमा रेखा (LoC) पर भारत की कार्रवाई के बाद बौखलाये पाकिस्तान ने सियाचिन ग्लेशियर के पास लड़ाकू विमान उड़ाया है। भारतीय एयरफोर्स ने पाकिस्तानी मीडिया के इस दावे को फर्जी करार दिया है। भारतीय वायुसेना ने कहा, ‘पाकिस्तानी वायुसेना का लड़ाकू विमान सियाचिन में भारतीय सीमा में नहीं घुसा था। ‘

खबर है कि पाकिस्तानी वायुसेना प्रमुख एयर स्टाफ एयर चीफ मार्शल सोहेल अमन ने खुद लड़ाकू विमान मिराज जेट से उड़ान भरी। स्कार्दू स्थित कादरी एयरपोर्ट से लड़ाकू विमान उड़ाए गये थे जिसे सियाचिन ग्लेशियर के पास देखा गया।

बताया जा रहा है कि पाकिस्तान ने सियाचिन ग्लेशियर में अपने सभी फॉरवर्ड ऑपरेटिंग बेस ऑपरेशनल कर दिए हैं। यहीं पर प्रैक्टिस के लिए पाक एयरफोर्स के मिराज जेट्स को भेजा गया था।

फाइटर जेट उड़ाने के बाद एयर चीफ मार्शल सोहेल अमन ने धमकी भरे लहजे में कहा, ‘भारत अगर पाकिस्तान पर कोई कार्रवाई करता है तो हमारे जवाब को भारत की कई पीढ़ियां याद रखेगी।’

पिछले दिनों भारतीय वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल बी एस धनोवा ने सभी अफसर को पत्र लिखकर कम वक्त में बड़ी कार्रवाई के लिए तैयार रहने को कहा था। जानकारी के मुताबिक ये ख़त 30 अप्रैल को लिखा गया था।

आपको बता दें की मंगलवार को सेना ने दावा किया कि सीमा पार से हमला रोकने के लिए आतंकवाद-रोधी रणनीति के तहत हालिया कार्रवाई में जम्मू एवं कश्मीर में सिमा रेखा से सटी पाकिस्तानी चौकियों को नष्ट कर दिया गया। सेना ने एक वीडियो क्लिप साझा किया, जिसमें एक जंगली इलाके में बमबारी और विस्फोट के बाद धुआं उठता दिख रहा है। भारत की कार्रवाई के बाद से पाकिस्तान बौखलाया हुआ है।

सियाचिन ग्लेशियर क्यों है महत्वपूर्ण

सियाचिन ग्लेशियर के एक तरफ पाकिस्तान की सीमा है तो दूसरी तरफ चीन। भारत के लिए यह काफी महत्वपूर्ण है।

1984 में पाकिस्तान सियाचिन पर कब्जे की तैयारी में था लेकिन सही समय पर इसकी जानकारी होने के बाद सेना ने ऑपरेशन मेघदूत लॉन्च किया था और 13 अप्रैल 1984 को सियाचिन ग्लेशियर पर भारत ने कब्जा  जमा लिया था।

Check Also

पुलवामा के बाद क्या पाकिस्तानी कलाकारों के भारत में काम देना सही ?

आतंकी हमले में 40 जवानों के शहीद होने के बाद 2 आतंकियों का एनकाउंटर करते …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *