Home » India » प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने असम में देश के सबसे लंबे पुल का उद्घाटन किया

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने असम में देश के सबसे लंबे पुल का उद्घाटन किया

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने असम में देश के सबसे लंबे पुल का उद्घाटन किया

गुवाहाटी:  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज असम में 9.15 किलोमीटर लंबे ढोला-सादिया पुल का उद्घाटन किया जिससे असम और अरुणाचल प्रदेश के बीच यात्रा का समय छह घंटे से कम होकर एक घंटा रह गया। इस अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी, असम के राज्यपाल बनवारी लाल पुरोहित और मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल भी मौजूद थे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस दौरान कहा, वर्ष 2003 में हमारे एक विधायक जगदीश भुइयां ने (पूर्व प्रधानमंत्री) अटल बिहारी वाजपेयी जी को यह पुल बनाने की गुजारिश की थी। उन्होंने मंजूरी दे दी थी. अगर वह आगली बार भी प्रधानमंत्री बनते तो यह पुल 10 साल पहले ही बन गया होता. अटल बिहारी वाजपेयी जी का सपना आज पूरा हुआ।’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के रूप में कामकाज संभालने के तीन साल पूरे होने के मौके पर नरेंद्र मोदी आज असम के दौरे पर हैं। वह एक जनसभा को भी संबोधित करेंगे जिसमें वह अपनी सरकार के तीन साल के कार्यकाल पर बोल सकते हैं। 2014 के लोकसभा चुनावों में भाजपा को जबरदस्त जीत दिलाने के बाद उस साल 26 मई को मोदी ने प्रधानमंत्री पद की शपथ ली थी।

‘महासेतु’ की खासियत

ब्रह्मपुत्र नदी पर बना 9.15 किलो मीटर लंबा यह पुल एशिया का दूसरा सबसे लंबा पुल है।
यह असम में तिनसुकिया जिले के ढोला तथा सदिया को जोड़ता है।
यह मुंबई के बांद्रा वर्ली सी लिंक पुल से 3.55 किलो मीटर लंबा है।
इस लिहाज से यह बांद्रा-वर्ली सी-लिंक से भी 30% लंबा है
यह पुल असम की राजधानी दिसपुर से 540 किमी और अरुणाचल की राजधानी ईटानगर से 300 किमी दूर है
चीनी सीमा से इस पुल की हवाई दूरी महज 100 किलोमीटर है।
तेजपुर के करीब कलाईभोमोरा पुल के बाद ब्रह्मपुत्र पर अगले 375 किमी याली ढोला तक बीच में कोई दूसरा पुल नहीं है
अभी तक इस इलाके में नदी के आरपार सारे कारोबार नावों के जरिए ही होते रहे हैं.
इस पुल के निर्माण का कार्य 2011 में शुरू हुआ था तथा इसके निर्माण पर 950 करोड़ रुपए लागत आई है।
ये पुल 182 खंभों पर टिका है
यह पुल पूर्वोत्तर के दो राज्यों असम-अरुणाचल को जोड़ेगा । पूर्वी क्षेत्र के दूर-दराज के लोगों को देश के अन्य हिस्सों से जुडऩे के लिए सुविधा मुहैया कराएगा, जो अभी तक नौका के जरिए कहीं भी आने-जाने के लिए विवश थे।
यह उतर-पूर्व में सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय की मुख्य परियोजना था तथा इसे सार्वजनिक निजी भागीदारी में बनाया गया है।
जनता के आने-जाने और कारोबार के अलावा, इससे सेना की आवाजाही में भी बेहद सुविधा होगी ।
इससे चीन सीमा तक के सफर में 4 घंटे की कटौती होगी ।
पुल इतना मजबूत बनाया गया है कि 60 टन के मेन बैटल टैंक भी गुजर सकें ।
इतना ही नहीं ये भूकंप के झटके भी आसानी से झेल सकता है।

असम में BJP सरकार का 1 साल

यहां सर्बानंद सोनोवाल की लीडरशिप वाली भाजपा सरकार एक साल पूरे करने जा रही है। मोदी ने अपनी सरकार के तीन साल पूरे होने पर जश्न के लिए इस स्टेट को चुना है। उल्लेखनीय है कि केंद्र सरकार आज से 15 जून तक 900 जगहों पर अलग-अलग कार्यक्रम करेगी । 18 मई 2016 को असम असेंबली के रिजल्ट आए थे। बीजेपी ने पहली राज्य में जीत दर्ज की थी। यहां 15 साल से राज कर रही कांग्रेस सरकार को बाहर कर दिया था।

Check Also

आखिरकार विजय माल्या का भारत लेन की मिली अनुमति

शराब कारोबारी विजय माल्या को भारत को सौंपने के लिए चल रही सुनवाई में कोर्ट …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *