Home » India » प्रधानमंत्री मोदी ने कहा देश में FDI बढ़कर 61,724 अरब डालर हुआ

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा देश में FDI बढ़कर 61,724 अरब डालर हुआ

प्रधानमंत्री ने असम और राजस्थान में बाढ़ से मरने वालों के परिजनों को मुआवजे की घोषणा की

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा है कि देश में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) में बड़ी बढ़ोतरी देखने को मिली है और यह 2013 के 34,487 अरब डालर से बढ़कर 61,724 अरब डालर हो गया है। अपनी सरकार के तीन साल के कार्यकाल पर रोशनी डालते हुए मोदी ने कहा है कि भारत को आज विश्व अर्थव्यवस्था में चमकते बिंदु के रूप में देखा जाता है, यहां व्यापार करना आसान बनाया गया है जबकि कर प्रणाली अधिक स्थायी व विश्वसनीय है।

मोदी ने पेशेवरों की सोशल मीडिया वेबसाइट लिंक्डइन पर एक आलेख में लिखा है कि माल व सेवा कर (जीएसटी) से भी देश को दीर्घकालिक फायदे होने जा रहे हैं। उन्होंने लिखा है, ‘‘मई 2014 में जब हमने कार्यभार संभाला था तो देश चुनौतीपूर्ण समय से गुजर रहा था। सरकार व संस्थानों में लोगों का भरोसा चुक गया था।’’ उन्होंने लिखा है, ‘‘भारत में निवेश की थोड़ी संभावना थी लेकिन कोई प्रोत्साहन नहीं था। भ्रष्टाचार, भाई भतीजावाद व अधिकारियों की मनमानी से उद्योग हतोत्साहित था।’’

प्रधानमंत्री मोदी के अनुसार, ‘‘हमारी एक तात्कालिक प्राथमिकता इस माहौल को बदलना था जो कि हमने बीते तीन साल में किया है।..हमारी सरकार के सकारात्मक परिणाम दिख रहे हैं।’’ उन्होंने लिखा है, ‘‘आज, मुझे यह बताते हुए गर्व है कि भारत को रिकार्ड विदेशी निवेश मिल रहा है।’’ साथ ही उन्होंने 2013 व 2016 के आंकड़ों की तुलना भी की है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि उनकी सरकार का मार्गदर्शक सिद्धांत ‘कायाकल्प के लिए सुधार’ है और सुधार एजेंडा ‘विस्तृत व समावेशी है जो समाज के सभी तबकों व देश के सभी क्षेत्रों को समेटे हुए है।’ प्रधानमंत्री मोदी ने इस दौरान राज्यों के बीच ‘दोस्ताना प्रतिस्पर्धा’ पर भी खुशी जताई है।

उन्होंने कहा कि राज्यों की इस तरह की विभिन्न पहलों से देश को फायदा होने वाला है। अपने इस आलेख के साथ उन्होंने विभिन्न क्षेत्रों के प्रदर्शन को दर्शाने वाले ग्राफिक भी लगाए हैं।

Check Also

गाजियाबाद के लोगों के लिए खुशखबरी

गाजियाबाद के लोगों के लिए खुशखबरी

उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद के लोगों के लिए खुशखबरी है। दिल्ली के दिलशाद गार्डन से …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *